Goal Setting - An Overview


अजीब धौंस है। उन्हें पता है, मैं उनके आगे कुछ भी नहीं कह पाऊंगा तो मेरी इसी शराफ़त का फायदा उठाते हुए म़ुझे हुक्म सुना

चाहे तो नंदू को साथ ले लेना। इसका मतलब ये लोग अपनी तरफ से मेरे और कुछ हद तक गुड्डी के भाग्य का फैसला कर ही चुके हैं। मैं भी देखता हूं, कैसे

Generate subgoals. Most goals tend to be more achievable if damaged down into smaller sized tasks. These scaled-down tasks are subgoals--minor goals that add up to the leading goal you hope to obtain.

शेखावाटी में लोठू की बहादुरी के गीत गए जाते हैं। क्योंकि वह आगरे के किले में से कूदकर भाग आया था। चौधरी रामूराम ने भी ऐसी ही बहादुरी का काम किया। वे जूनागढ़ के किले में से दीवार फांदकर भाग आए और रातों रात शेरपुरा पहुंचे। शेरपुरा को अपनी उम्रभर के लिए नमस्कार कर वहाँ से बाल- बच्चो को लेकर चल दिये और गंधेली के पास सरदारपुरा आकर बस गए।

ही पड़ेगा। उसके लिए दारजी परमिशन देने से रहे। बस, किसी तरह वह बीए पूरा कर ले तो उसके लिए यहीं कुछ करने की सोचूंगा।

आज दीपावली का त्योहार है। चारों तरफ त्योहार की गहमा-गहमी है। लेकिन मेरे Study Motivation पारसी मकान मालिक इस हंगामे से पूरी तरह

वहाँ रहते हुये चौधरी देदाजी गोदरा के साथ महाराज भैरूसिंह साहब के दर्शन हुये। ये दर्शन अकस्मात ही हो गए क्योंकि जहां चौधरी साहब खड़े थे वहाँ एक राजपूत सरदार का भी निवास था। महाराजा साहब उधर ही आए थे। चौधरी देदा जी से वे परिचित थे सो पूछा यह तुम्हारे साथ आदमी खड़ा है वह कौन है। उन्होने उत्तर दिया कि महाराज यह मेरा रिश्तेदार है और अङ्ग्रेज़ी पढ़ा लिखा है। महाराजा ने कहा इससे अर्जी दिलादो मैं अफसर बना दूँगा।

उनसे मेरे बहुत ही सहज संबंध हो गये हैं लेकिन फिर भी उन्होंने मुझसे कोई व्यक्तिगत प्रश्न नहीं ही पूछे हैं। 

रामूराम जी ने अपने पिता का भोज तो किया था परंतु मरते समय पिताजी ने हमसे आश्वासन लिया था कि उनका मृत्यु भोज न किया जावे।

Place it in creating. Creating reinforces ideas. Even when you are the one just one to view Everything you've penned, creating down your goals may give extra power on your intentions.

तो उन्होंने मेरे कपड़ों, सामान और उन लोगों के लिए लाये सामान से अंदाजा लगा ही लिया होगा कि मैं अब अच्छी खासी जगह पर

होर की हो सकदी है। - ये मैं क्या सुन रहा हूं। ये कुड़ी दिखाने का क्या चक्कर है भई। बेबे या दारजी इस समय सातवें आसमान पर हैं,

बीए करने तक डिस्टर्ब न करें और वह ठीक - ठाक नम्बर ला सके। आते ही फिर से उन्हीं चक्करों में खुद को उलझा लिया है। पता नहीं अब कब तक इसी तरह की ज़िंदगी को ठेलते जाना होगा।

रखी है। - ये मेरी सौदेबाजी नहीं है तो क्या है दारजी...? - ओये चुप कर बड़ा आया सौदेबाजी वाला .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *